जीवनभर के साथ लिए, जानिए शादी का कौन सा फार्मूला है हीट …लव या अरेन्ज?

शादी जीवन में जितनी महत्वपूर्ण है उतना ही ज्यादा जीवन के लिए सही हमसफर का चुनाव भी माएने रखता है। यहीं वजह है कि शादी की उम्र तक आते-आते लोग इस बात से परेशान रहने लगते हैं कि उन्हें अपने पेरेंट्स के कहे अनुसार अरेंज मैरिज करनी चाहिए या खुद से किसी को पसंद करके लव मैरिज करनी चाहिए। कुछ लोगों को ज़िन्दगी में अपना हमसफ़र आसानी से मिल जाता है, इसलिए उन्हें लव मैरिज को लेकर कोई संदेह नहीं होता। लेकिन कुछ लोगों को अपनी शादी को लेकर काफी कन्फ्यूज़न रहता है, वह फैसला नहीं ले पाते कि उनके लिए क्या सही है, लव मैरिज या अरेंज मैरिज ? अगर आप भी अभी तक इसी दुविधा में हैं और जानना चाहते हैं कि लव मैरिज या अरेंज मैरिज में से कौन सी ज्यादा सही होती है, तो ये आर्टिकल आपके लिए है..

अरेंज मैरिज

भारतीय परम्परा में अरेन्ज मैरिज को ज्यादे महत्व दिया जाता है …आधुनिक युग में भी लोग अक्सर अरेन्ज मैरिज के पक्ष में ही खड़े दिखते हैं । लोग मानते हैं कि बड़े बुजुर्गों की राय और आशीर्वाद से अगर शादी की जाए तो सफल रहती है ..इसकी कई वजहें भी हैं जैसे कि अरेन्ज मैरिज में चूंकि आप घर वालों की मर्जी से शादी करते हैं तो वो हमेशा आपके साथ रहते हैं।

ऐसे में अगर पति पत्नी के बीच कभी आपसी मनमुटाव होता है तो घर के लोग उन्हें समझाबुझाकर मामला शान्त कर देते हैं ..साथ ही आपकों हर सुख दुख में घर वालों का साथ मिलता है जो कि आपके रिश्ते को एक तरह से भावनात्मक सुरक्षा प्रदान करता है। यहीं वजह है कि अरेन्ज मैरिज में अलगाव की स्थिति बहुत कम ही देखने को मिलती है या कह सकते हैं कि घर वालों की वजह से अलगाव से बच जाते हैं। हांलाकि आज के समय में अरेन्ज मैरिज को अपनाना और निभाना भी बड़ी बात है क्योंकि बिना एक दूसरे के अच्छी तरह से जाने जीवन भर का साथ निभाना मुश्किल हो जाता है।

लव मैरिज

एक तरफ जहां अरेन्ज मैरिज में आपको अपने घरवालों के साथ मिलने के फाएदे होते हैं वहीं लव मैरिज में आपको बेहतर जीवनसाथी के चुनाव की आजादी होती है।साथ ही आप पहले से ही अपने पार्टनर को जानते हैं जो आपसी समझ को विकसित करने और शादी को निभानें में सहायक होता है। आपको इस बात की जीवनभर संतुष्टी रहती है कि आप जिसे प्यार करते हैं वो ही आपका हमसफर है ये संतुष्टि या आत्मविश्वाश रिश्ते को निभाने में मदद करता है। हांलाकि इसमे भी कई दुश्वारियां पैदा हो जाती हैं जैस कि आप अपने साथी से कई सारी उम्मीदे बांधे रखते हैं लेकिन प्यार के बाद जब शादी में हकीकत की दुनिया से वास्ता होता है तो अक्सर ये उम्मीदें पूरी होती नही दिखती हैं जो कि आपसी मनमुटाव का सबसे बड़ा कारण बनता है।

हमारी राय आपके लिए यही है कि हर रिलेशनशिप की अपनी खूबसूरती और आर्कषण होता है, फिर चाहे वो लव मैरिज हो या अरेंज मैरिज। क्योंकि रिश्तों की मज़बूती आपसी समझदारी से बढ़ती है, फिर चाहे आपने शादी से पहले प्यार किया हो या शादी के बाद, बस आपके बीच अंडरस्टैंडिंग जरुरी है|